Sorry, your browser does not support JavaScript! Please use javascript enabled browser.

बड़ी ख़बरें

  • गलगोटिया यूनिवर्सिटी में दवा निर्माण पर हुई राष्ट्रीय सेमीनार
  • यूनिवर्सिटी को फार्मा से जुड़े पांच पाठ्यक्रमों की मान्यता मिली
  • उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी शारदा यूनिवर्सिटी पहुंचे
  • हामिद अंसारी ने एजूकेशन सिस्टम पर छात्रों के सवालों के दिए जवाब

डीयू एडमिशनः इन 10 बातों का रखें ख्याल

The University Correspondent 2017/04/16 13:38

NEW DELHI: दिल्ली यूनिवर्सिटी में दाखिलों की दौड़ बहुत जल्दी शुरू होने वाली है। पहले अंडर ग्रेजुएट कोर्सेस के लिए दाखिले शुरू होंगे। डीयू के 70 से ज्यादा काॅलेज हैं जो आर्ट, साइंस और मानविकी के विषयों में प्रवेश देंगे। यूनिवर्सिटी दाखिलों के लिए कट आॅफ जारी करेगी। ऐसे में दाखिले के इच्छुक छात्रों को कुछ महत्वपूर्ण बातों से अवगत रहना चाहिए। ऐसी ही 10 बातें हम आपको बता रहे हैं।

1- दिल्ली यूनिवर्सिटी ने अपनी दाखिला प्रक्रिया पूरी तरह आॅनलाइन कर दी है। लिहाजा, कहीं लाइन में लगने की जरूरत नहीं है। यूनिवर्सिटी और काॅलेजों के एप्लीकेशन आॅनलाइन भरें।
2- आवेदन के लिए फीस भी आॅनलाइन जमा की जाएगी। स्टेट बैंक की किसी ब्रांच में ड्राफ्ट बनवाने के लिए लाइन में लगने की जरूरत नहीं है।
3- आर्ट, साइंस और हूमैनिटीज के लिए कट आॅफ अलग-अलग लगाई जाएंगी।
4- ज्यादातर काॅलेज छात्रों के बेस्ट फोर सब्जेक्ट मार्क को कट आॅफ का आधार बनाएंगे। मतलब, छात्र के जिन चार विषयों में सर्वाधिक अंक हों उन्हें जोड़कर मेरिट लिस्ट जारी होगी।
5- यूनिवर्सिटी कुछ पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश परीक्षा कर सकती है। बीटेक, बीएलएड, बीएमएस, बीए आॅनर्स इकोनोमिक्स और बीबीए एफआईए के लिए प्रवेश परीक्षा का आयोजन हो सकता है।
6- प्रत्येक कोर्स में पांच फीसदी सीटें स्पोट्र्स कोटा और ईसीए के लिए रिजर्व रखी जाएंगी।
7- सारे काॅलेज स्पोट्र्स कोटा और ईसीए के लिए अपना-अपना ट्रायल आयोजित करेंगे। इस कोटे के छात्रों को ट्रायल की तारीखों का ख्याल रखना चाहिए।
8- महिला छात्र नाॅन काॅलेजिएट वूमन एजूकेशन बोर्ड का विकल्प चुन सकती हैं। डीयू इनके लिए वीक एंड कक्षाओं का आयोजन करती है। इसके लिए स्टडी सेंटर बनाए जाते हैं।
9- नाॅन काॅलेजिएट वूमन एजूकेशन बोर्ड के तहत केवल बीए और बीकाॅम पाठ्यक्रमों में पढ़ाई कर सकते हैं।
10- जो छात्र डिस्टेंस लर्निंग के तहत पढ़ना चाहते हैं, वे स्कूल आॅफ ओपन लर्निंग का विकल्प चुन सकते हैं।




संबंधित खबरें