Sorry, your browser does not support JavaScript! Please use javascript enabled browser.

बड़ी ख़बरें

  • गलगोटिया यूनिवर्सिटी में दवा निर्माण पर हुई राष्ट्रीय सेमीनार
  • यूनिवर्सिटी को फार्मा से जुड़े पांच पाठ्यक्रमों की मान्यता मिली
  • उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी शारदा यूनिवर्सिटी पहुंचे
  • हामिद अंसारी ने एजूकेशन सिस्टम पर छात्रों के सवालों के दिए जवाब

पाक अधिकृत कश्मीर के मेडिकल काॅलेजों में पढ़े डाॅक्टरों को भारत में मान्यता नहीं मिलेगी

The University Network 2017/04/23 00:33

मेडिकल काउंसिल आॅफ इंडिया (एमसीआई) ने बड़ा फैसला लिया है। पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में शुरू हुए नए मेडिकल काॅलेजों के छात्रों के पहले बैच को इंडियन मेडिक सर्टिफिकेशन टेस्ट में बैठने की अनुमति नहीं दी जाएगी। इन छात्रों के लिए यह फैसला बड़ा झटका है। एमसीआई ने साफ कर दिया है कि पाकिस्तान या दूसरे देशों के मान्यता प्राप्त मेडिकल काॅलेजों से डिग्री हासिल करने वाले छात्रों को ही टेस्ट में शामिल होने की इजाजत मिलेगी।

2011 में पाक अधिकृत कश्मीर में शुरू हुए तीन मेडिकल काॅलेजों से पास आउट डाॅक्टरों को इंडियन मेडिक सर्टिफिकेशन टेस्ट में बैठने की इजाजत नहीं होगी। बड़ी बात यह है कि पढ़ाई पूरी करने के छह साल बाद भारत में इनकी डिग्री अवैधानिक हो जाएंगी।

मुजफ्फराबाद, मीरपुर और रावलकोट में 2011 के बाद तीन मेडिकल काॅलेज स्थापित किए गए हैं। जिनमें 30 छात्र पंजीकृत हैं। इन छात्रों ने हाल ही में अपनी पढ़ाई पूरी की है। एमसीआई के एक अधिकारी ने बताया, हमारे पास उन यूनिवर्सिटी और संस्थानों की सूची है, जो एमसीआई से संबद्ध हैं। यह सूची हमने दूसरे देशों में हमारे हाई कमीशन और दूतावासों की रिपोर्ट के आधार पर बनाई जाती हैं।




संबंधित खबरें