Sorry, your browser does not support JavaScript! Please use javascript enabled browser.

बड़ी ख़बरें

  • गलगोटिया यूनिवर्सिटी में दवा निर्माण पर हुई राष्ट्रीय सेमीनार
  • यूनिवर्सिटी को फार्मा से जुड़े पांच पाठ्यक्रमों की मान्यता मिली
  • उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी शारदा यूनिवर्सिटी पहुंचे
  • हामिद अंसारी ने एजूकेशन सिस्टम पर छात्रों के सवालों के दिए जवाब

शारदा यूनिवर्सिटी में हुआ नुक्कड़ नाटक ‘व्हेन आई वोन डिप्रेशन’ का मंचन

The University Network 2017/02/19 17:52

GREATER NOIDA: कर्मभूमि ने शारदा यूनिवर्सिटी में व्हेन आई वोन डिप्रेशन नुक्कड़ नाटक का मंचन किया है। इस नाटक का मकसद यह बताना है कि वर्ष 2020 में भारत युवाओं का देश बन जाएगा। 65 प्रतिशत आबादी 29 वर्ष से कम आयु वाली होगी। लेकिन मानसिक तनाव, ड्रग्स और डिप्रेशन चरम सीमा पर होगा। इस समस्या से बचाव का ढंग यह नाटक बताता है।

नाटक बताता है कि बच्चों का मन शीशे की तरह बिलकुल साफ होता है। उसके मन के शीशे में किसी भी तरह का कोई मैल नहीं होता। जैसे ही वह बच्चा बड़ा होता है, उसके अंदर सोचने-समझने की शक्ति विकसित होती है। परिवार और समाज ईर्द-गिर्द रहने लगते हैं। जिससे उसकी सोच में परिवर्तन देखने के मिलता है। यहां बच्चे की सोच में परिवर्तन सकारात्मक भी हो सकता है या फिर नकारात्मक भी। नकारात्मक सोच ही युवाओं में अवसाद की जड़ है।

कर्मभूमि टीम की अभिनेत्री कनूप्रिया, ओजस्वीनी गुल, गुंचा द्विवेदी, और जसविन्द्र सिंह शारदा यूनिवर्सिटी ने नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति दी। इसके बाद छात्र-छात्राओं के लिए परामर्श किया। उन्होंने छात्र-छात्राओं को डिपे्रशन पर काबू पाने के तरीके बताए। कर्मभूमि एक संस्था डिप्रेशन को दूर करने के लिए लोगों को प्रेरित करती है। संस्था का दावा है कि 2020 में 29 वर्ष तक की आयु में डिप्रेशन के चांस बहुत ज्यादा हैं।




संबंधित खबरें